असंभव नहीं है अयोध्या मुद्दे का हल, मुसलमान भी चाहते हैं राम मंदिर: श्रीश्री रविशंकर - .

Breaking

Thursday, 16 November 2017

असंभव नहीं है अयोध्या मुद्दे का हल, मुसलमान भी चाहते हैं राम मंदिर: श्रीश्री रविशंकर

art of living founder reached ayodhya met gopal das
राम मंदिर विवाद के हल का फॉर्मूला तलाशने अयोध्या पहुंचे आध्यात्मिक गुरु श्रीश्री रविशंकर ने कहा कि 25 साल में बहुत कुछ बदल गया है। आज हिन्दू समाज ही नहीं बल्कि बड़ी संख्या में मुसलमान भी मंदिर निर्माण चाहते हैं। श्रीश्री गुरुवार को अयोध्या विवाद से जुड़े पक्षकारों और संत-महात्माओं से मिलने के बाद निर्मोही अखाड़ा में पत्रकारों से बात कर रहे थे।
श्रीश्री ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला आएगा उसे हर कोई मानेगा, लेकिन यह सुनहरा अवसर है जब कोर्ट के निर्णय से पहले आपसी सुलह समझौते के जरिये इस विवाद का हल हो जाए। आशा के साथ निकला हूं, किसी फॉर्मूले को लेकर नहीं। मैं सभी पक्षों से बात करूंगा व अपना प्रयास जारी रखूंगा।
उन्होंने कहा कि यह सौहार्द्र, स्नेह और भाईचारा दिखाने का अवसर है। जो न्यायालय में होगा वह सर्वसम्मत से नहीं होगा तो आगे 50 साल बाद यह मुद्दा फिर उठ सकता है। यदि स्थायी हल चाहते हैं तो दोनों समुदायों के सौहार्द्र से सहयोग से भव्य मंदिर बने।

यह सपना बहुत बड़ा दिखता है, कभी-कभी लगता है यह असंभव है, लेकिन मैं नहीं मानता, इसको संभव करा सकते हैं। उन्होंने श्रीरामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास, बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी व हाजी महबूब से बंद कमरे में चर्चा की। श्रीश्री रविशंकर ने रामलला के दरबार में भी हाजिरी लगाई।

No comments:

Post a Comment

Pages