अंगूरी और अनिता भाभी पर हुआ राजनीति का भूत सवार, बोलीं- अब की बार भाभियों की सरकार! - .

Breaking

Tuesday, 28 November 2017

अंगूरी और अनिता भाभी पर हुआ राजनीति का भूत सवार, बोलीं- अब की बार भाभियों की सरकार!

अंगूरी और अनिता भाभी पर हुआ राजनीति का भूत सवार, बोलीं- अब की बार भाभियों की सरकार!

 भाबी जी घर पर है के डाय हार्ड फैन्स को इन दिनों दोनों भाभियों (अनिता और अंगूरी) का अलग-अलग अंदाज देखने मिल रहा है. कभी वह पुलिसवाली के किरदार में बंदूक उठाती हैं तो कभी ड्रैकुला बन डराती हैं. दोनों के स्टाइल और अनोखे अंदाज को काफी पसंद किया जा रहा है. अब जल्द ही दर्शक दोनों भाभियों को एकदम हटके अंदाज में देख पाएंगे. जी हां, जल्द ही दोनों भाभियों के सिर पर राजनीति का भूत सवार होगा, और राजनीति के अखाड़े में दोनों एक-दूसरे से भिड़ेंगी. 


आगामी एपिसोड्स में दर्शक कानपुर नगर निगम चुनाव शो में शुरू होते दिखेंगे. तेज तर्रार पार्टी के सदस्य अनिता भाभी (सौम्या टंडन) को पार्टी में शामिल होने और चुनाव में खड़े होने का प्रस्ताव देंगे. अनिता भाभी इसका टिकट लेकर उत्साहित हो जाएंगी और तुरंत पार्टी के एक नेता के रूप में अपना एजेंडा बना लेंगी. वह कानपुर को बेहतर, साफ और प्रगतिशील शहर बनने का फैसला करती हैं. अनिता अपनी प्लानिंग तिवारी के साथ साझा करती हैं और वह अनिता को सपोर्ट करने के लिए तैयार हो जाते हैं. तिवारी अनिता के अभियान में उनका पीए बनकर शामिल होते हैं.
 

दूसरी तरफ भोली भाली पार्टी अंगूरी भाभी (शिवांगी अत्रे) को अपना सदस्य बनने की प्लानिंग करते हैं और विभूति नारायण अंगूरी भाभी का सपोर्ट करने आ जाते हैं. विभूति उन्हें चुनाव में खड़े होने और महिलाओं के अधिकार के लिए लड़ने का एजेंडा बनाकर देते हैं. अंगूरी मान जाती हैं और भोली भाली पार्टी का प्रस्ताव स्वीकार कर लेती हैं. 

भाभियों द्वारा पार्टी का टिकट अपनाने के बाद अब दोनों पड़ोसी एक-दूसरे के खिलाफ खड़े हो जाते हैं. यहां तक पति-पत्नी भी एक-दूसरे के दुश्मन बन गए हैं. अब देखना दिलचस्प होगा कि कौन-सी पार्टी चुनाव जीतती है? साथ ही विभूति और तिवारी अपने उम्मीदवार को जीताने के लिए क्या-क्या पैतरे अपनाते हैं? 

No comments:

Post a Comment

Pages