फ्रेंच ओपन चैंपियन बनने के बाद घर लौटे श्रीकांत, कहा-लिन डैन और ली चोंग वेई के दबदबे के दिन पूरे हुए - .

Breaking

Sunday, 5 November 2017

फ्रेंच ओपन चैंपियन बनने के बाद घर लौटे श्रीकांत, कहा-लिन डैन और ली चोंग वेई के दबदबे के दिन पूरे हुए

फ्रेंच ओपन चैंपियन बनने के बाद घर लौटे श्रीकांत, कहा-लिन डैन और ली चोंग वेई के दबदबे के दिन पूरे हुए  


हैदराबाद: भारतीय बैडमिंटन स्टार किदांबी श्रीकांत फ्रेंच ओपन में जीत के बाद स्वदेश लौट चुके हैं. पांच महीने में चार सुपर सीरीज खिताब जीतकर बेहतरीन फॉर्म में चल रहे श्रीकांत ने कहा कि बैडमिंटन में लिन डैन और ली चोंग वेई के दबदबे के दिन पूरे हो गए हैं. उन्होंने कहा कि टूर्नामेंट में किसी भी खिलाड़ी की जीत की भविष्यवाणी करना अब मुश्किल है.


एक कैलेंडर वर्ष में चार सुपर सीरीज खिताब जीतने वाले भारत के पहले और दुनिया के चौथे पुरुष एकल खिलाड़ी बने श्रीकांत ने कहा कि आजकल उनके सहित कई खिलाड़ी शीर्ष टूर्नामेंट जीतने की क्षमता रखते हैं.  श्रीकांत ने कहा,  मुझे लगता है कि लंबे समय तक ली चोंग वेई और लिन डैन का बैडमिंटन में दबदबा रहा. हालांकि अब ऐसा नहीं है. मैं, विक्टर एक्सेलसन और यहां तक कि अन्य भारतीय भी टूर्नामेंट जीत रहे हैं. अब मुकाबला चौतरफा हो गया है और यह हमेशा खेल के लिए अच्छा होता है जब इतने सारे चैंपियन होते हैं. हाल में डेनमार्क ओपन और फ्रेंच ओपन में जीत के बाद पुलेला गोपीचंद अकादमी में श्रीकांत को सम्मानित किया गया. उन्होंने जून में इंडोनेशिया ओपन और ऑस्ट्रेलिया ओपन, जबकि इस महीने डेनमार्क ओपन और फ्रेंच ओपन के खिताब जीते.


'कोई किसी को भी हरा सकता है'
श्रीकांत ने कहा,  आजकल कई खिलाड़ी काफी अच्छा खेल रहे हैं और किसी भी दिन कोई भी किसी को भी हरा सकता है. इसलिए किसी के भी खिलाफ अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना हमेशा महत्वपूर्ण होता है. यह पूछने पर कि क्या लिन डैन और ली चोंग वेई अपने करियर के अंतिम चरण के करीब हैं. श्रीकांत ने कहा, मैं यह नहीं कह सकता कि यह उनका अंत है. वे शीर्ष स्तर पर खेले और उनके पास वापसी करने के लिए जरूरी अनुभव है. कोई उन्हें हल्के में नहीं ले सकता. लिन डैन विश्व चैंपियनशिप के फाइनल में खेला था. उनका सामना करना आसान नहीं है, लेकिन हमें अपने ऊपर विश्वास रखना होगा कि हम उनका सामना कर सकते हैं.


'टूर्नामेंट में बेहतर प्रदर्शन करना चाहता हूं'
श्रीकांत से जब यह पूछा गया कि अगर वह आगामी चीन ओपन का खिताब जीत लेते हैं तो दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी बन जाएंगे. इस पर उन्होंने कहा कि यह ऐसे ही है. अगर आप लगातार अच्छा प्रदर्शन करें तो रैंकिंग बेहतर होती है और मैं रैंकिंग के पीछे नहीं भागना चाहता. मैं टूर्नामेंटों में बेहतर प्रदर्शन करना चाहता हूं.

No comments:

Post a Comment

Pages