[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

PM बोले- हमने अपने लिए जीना नहीं सीखा, हम रहें न रहें पर देश को बर्बाद नहीं होने देंगे

PM Narendra Modi Karnataka visit Shri Manjunatha Swami Temple public meeting

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  रविवार को एक दिन के दौरे पर कर्नाटक पहुंचे। पीएम ने यहां हरि मंजूनाथ स्वामी मंदिर के दर्शन किए और उजीर में जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने पिछले हफ्ते की अपनी केदारनाथ यात्रा का जिक्र करते हुए कहा कि प्रसिद्ध मंदिरों में जाकर भगवान के दर्शन करना उनका सौभाग्य है।
पीएम ने कहा कि वे देश के लिए पूरी तरह समर्पित हैं और वे रहें या न रहें देश को बर्बाद नहीं होने देंगे। इस बीच पीएम ने कैशलेस लेनदेन पर उठने वाले सवालों का जवाब दिया और कहा कि इरादे अगर नेक हों तो आलोचना भी अवसर बन जाती है। पीएम के मुताबिक 12 लाख लोगों ने कैशलेस लेनदेन का संकल्प लिया है।

पीएम ने कहा कि कैशलेन लेनदेन के लिए जितना बुरा बोला जा सकता था बोला गया, लेकिन इसे आगे बढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी गई। फसल में यूरिया के कम इस्तेमाल की अपील भी पीएम मोदी ने किसानों से की। उन्होंने कहा कि 2022 में देश की आजादी को 75 साल हो रहे हैं और ये संकल्प लिया जाना चाहिए कि 2022 तक यूरिया का इस्तेमाल 100 से घटकर 50 फीसदी हो जाएगा। पीएम ने कहा कि यूरिया के कम इस्तेमाल से पैसे तो बचेंगे साथ ही धरती माता की सेवा भी होगी।

पीएम ने मंदिर का प्रबंधन देखने वाले डॉ. वीरेंद्र हेगड़े की तारीफ की और कहा कि उनके संचालन से हमें बहुत कुछ सीखना चाहिए। पीएम ने कहा कि पीढ़ी दर पीढ़ी हेगड़े मंदिर का संचालन देखते हैं। बता दें कि दक्षिण भारत के कन्नड़ जिले में स्थित मंजूनाथ मंदिर 800 साल पुराना धार्मिक स्थल है। भगवान मंजूनाथ को भगवान शिव का ही स्वरूप माना जाता है।

बताया जा रहा है कि मोदी कर्नाटक में कई और कार्यक्रमों में भी हिस्सा लेंगे। पूरे राज्य में आज मोदी को सात या आठ कार्यक्रमों में हिस्सा लेना है। सबसे पहले जनसभा को संबोधित करके मोदी 'प्रधानमंत्री जन धन योजना' के तहत रुपए कार्ड बांटेंगे। फिर वह एक ट्रस्ट के कैंपेन 'Preserve Mother Earth and Transfer to the Next Generation' की भी शुरुआत करेंगे।

मोदी 110 किलोमीटर लंबी रेलवे लाइन का भी उद्घाटन करेंगे जिससे नई दिल्ली से बेंगलूरु के बीच की दूरी कम हो जाएगी। इस प्रोजेक्ट की आधारशीला 1996 में रखी गई थी और  फिर फंड की कमी के चलते काम लटका रहा। इस देरी के चलते 370 करोड़ के प्रोजेक्ट की लागत बढ़कर 1,542 करोड़ हो गई।

About Author saloni

i am proffesniol blogger

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search