बीएस-III के दुपहिया वाहनों को बेचने कंपनियों ने लगा दी पूरी ताकत - .

Breaking

Thursday, 30 March 2017

बीएस-III के दुपहिया वाहनों को बेचने कंपनियों ने लगा दी पूरी ताकत


मुंबई: BS-III स्टैंडर्ड वाले वाहनों की खरीद-बिक्री पर एक अप्रैल से पाबंदी के आदेश के बाद से ही टू-व्हीलर कंपनियां ने इस मॉडल पर छूट का दायरा काफी बढ़ा दिया है. टू-व्हीलर पर 22 हजार रुपये तक दी छूट दी जा रही है. लेकिन ये ऑफर BS-III मॉडल दुपहिये वाहनों पर 31 मार्च तक के लिए ही है. वहीं BS-III एमिशन स्टैंडर्ड वाली Triumph की क्रूज बाइक पर मुंबई में लगभग 3 लाख रुपये तक की छूट मिल रही है.
अपने बीएस-III मानक वाली मोटरसाइकिलों और स्कूटरों को बेचने के लिए दो दुपहिया कंपनियों ने भी पूरी ताकत लगा दी है. जिसके तहत ये भारी छूट ग्राहकों को दी जा रही है. कंपनियों का यह ऐलान सुप्रीम कोर्ट के उस आदेश के ठीक एक दिन बाद आया है जिसमें कहा गया है कि एक अप्रैल से BS-III मानकों वाले दुपहिया वाहनों पर रजिस्ट्रेशन पर रोक लगाने का आदेश दिया गया है. दुपहिया वाहन बनाने वाली प्रमुख कंपनियों जैसे हीरो मोटो कार्प, एचएमएसआई, बजाज ऑटो और सुजकी मोटरसाइकिल ने अपने कई मॉडल्स पर 22 हजार रुपये तक की छूट का ऐलान किया है. हीरो ने अपने स्कूटरों की बिक्री पर 12,500 रुपये की छूट, प्रीमियम मोटरसाइकिलों पर 7500 की छूट और एंट्री लेवल मोटरसाइकिलों पर 5000 रुपये के छूट का ऑफर किया है. जबकि दूसरी ओर होंडा ने अपने सभी दुपहिया वाहनों पर डिस्काउंट 22000 रुपये तक कर दिया है. ये कंपनियां एक अंतिम प्रयास कर रही हैं कि उनके बीएस3 मानक पर बने ज्यादा से ज्यादा टू-व्हीलर 31 मार्च से पहले निकल जाए. दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने वाहन कंपनियों की वो याचिका खारिज कर दी जिसमें BS-III वाले वाहनों की खरीद-फरोख्त की मियाद और बढ़ाने की अपील थी. कोर्ट का आदेश वाहन कंपनियों के लिए आफत और खरीदारों के लिए राहत का सबब बन गया, क्योंकि दो दिन बाद यानी एक अप्रैल से शोरूम में खड़े वाहनों की दशा पिछले साल आठ नवंबर की आधी रात के बाद से हजार पांच सौ के नोट जैसी हो जाएगी. नये सड़क और मोटर वाहन अधिनियम के मुताबिक सड़क पर वाहन चलते वक्त उसकी हेडलाइट ऑन रहनी चाहिए. BS-III के वाहनों की हेडलाइट अंधेरा होने या जरूरत पड़ने पर ऑन करने के लिए स्विच होता है, यानी ऑन करना भूल गए तो चलान भरना होगा। साथ ही प्रदूषण मानकों पर भी BS-III पीछे है, यानी BS-IV के मुकाबले ज्यादा प्रदूषण फैलाते हैं. लेकिन जनता फिलहाल तो सस्ता के चक्कर में भागी फिर रही है. आंकड़ों के मुताबिक देश भर में लगभग साढ़े आठ लाख BS-III वाहन हैं. इनमें भी सबसे ज्यादा करीब सवा सात लाख दो पहिया और तीन पहिया वाहन हैं. बाकी बचे में से चार पहिया वाहन तो गिनती के ही हैं करीब साठ हजार. 1 अप्रैल से देश में केवल BS-IV वीइकल्स बनाए और बेचे जाएंगे.

No comments:

Post a Comment

Pages