ओला-प्रभावित फसलों का होगा शत-प्रतिशत सर्वे: शिवराज - .

Breaking

Sunday, 5 February 2017

ओला-प्रभावित फसलों का होगा शत-प्रतिशत सर्वे: शिवराज


भोपाल: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि चंबल संभाग के भिण्ड, मुरैना और श्योपुरवासियों के विकास की जीवन-रेखा को जोड़ने के लिए चंबल एक्सप्रेस-वे बनाने का निर्णय प्रदेश सरकार ने लिया है। इस एक्सप्रेस-वे के बन जाने से चंबल क्षेत्र के बीहड़ में उद्योग सहित अन्य विकास आसानी से हो सकेंगे। एक्सप्रेस-वे उत्तर प्रदेश एवं राजस्थान को जोडे़गा। चौहान ने कहा कि ओला-प्रभावित फसलों का शत-प्रतिशत सर्वे करवाकर राहत राशि उपलब्ध करवायी जायेगी। मुख्यमंत्री भिण्ड जिले के गिरगाँव में किसानों को संबोधित कर रहे थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि मुरैना, ग्वालियर, दतिया, शिवपुरी की भी फसलें प्रभावित हुई हैं। इन क्षेत्रों में भी सर्वे करवाकर किसानों को पूरी राहत दी जाएगी। उन्होंने कहा कि जिन किसानों ने अपनी फसल का बीमा करवाया है, उन्हें 25 प्रतिशत राशि प्राथमिक आकलन के बाद दिलवाई जाएगी, बाद में पूरा भुगतान करवाया जाएगा। सरकार इसकी खुद मॉनीटरिंग करेगी। जिन किसानों ने फसल का बीमा नहीं करवाया है, उनकी भरपाई सरकार खुद कराएगी। जिन किसानों की फसलों का नुकसान 50 प्रतिशत से ज्यादा हुआ है, उनकी बेटियों के विवाह के लिए सरकार 25 हजार रुपए की आर्थिक सहायता मुहैया करवाएगी। साथ ही ओला प्रभावित किसानों की कर्ज वसूली स्थगित की जाएगी। कर्ज का ब्याज सरकार भरेगी। किसानों को आगामी फसलों के लिए जीरो प्रतिशत ब्याज पर खाद-बीज के लिये ऋण उपलब्ध करवाया जायेगा। चौहान ने कहा कि ओला एवं बेमौसम बारिश से उत्पन्न संकट की इस घड़ी में सरकार किसानों के साथ खड़ी है। फसलों की क्षति का तत्परता से आकलन करवाया जा रहा है। किसानों को शीघ्र ही राहत मुहैया करवाई जाएगी। उन्होंने जिला प्रशासन को हिदायत देते हुए कहा कि पूरी ईमानदारी और संवेदनशीलता के साथ फसलों का सर्वेक्षण करवाया जाए। क्षति के आकलन के बाद प्रभावित किसानों की सूची ग्राम पंचायत पर चस्पा की जाएगी। अगर किसानों को कोई आपत्ति हो तो वे पुनः अपने खेत का सर्वे भी करवा सकते हैं। उन्होंने कहा कि भिण्ड जिले के 73 गाँव ओला से प्रभावित हुए हैं। चौहान ने कहा कि भिण्ड अटेर के अलावा मिहोना, कनावर, दबोह के क्षेत्र में पहले से ही राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित किए जा चुके हैं। चंबल क्षेत्र के अटेर के अन्तर्गत चंबल पुल भी बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि चंबल एक्सप्रेस-वे के बन जाने से संपूर्ण चंबल क्षेत्र विकास की मुख्य-धारा से जुड़ सकेगा। यातायात के विकसित हो जाने से चंबल के बीहड़ों में नए उद्योग, डेयरी विकास तथा कृषि के नए आयाम जुड़ सकेंगे। मुख्यमंत्री ने क्षेत्र के किसान दाताराम, जवान सिंह एवं मंगल सिंह के सरसों के खेतों पर पहुँचकर ओले से हुए नुकसान का जायजा लिया। उन्होंने कहा कि इस संकट की घड़ी में सरकार किसानों के साथ है, नर्मदा घाटी विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) लालसिंह आर्य ने कहा कि मुख्यमंत्री हमेशा से ही किसानों के दुख-दर्द में शामिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि गोहद क्षेत्र में ओला से प्रभावित फसलों का सर्वे खेत-खेत पर जाकर किया जा रहा है। सर्वे के बाद किसानों को राहत राशि भी उपलब्ध करवाई जाएगी। इस दौरान राज्य सभा सांसद प्रभात झा, क्षेत्रीय सांसद डॉ. भागीरथ प्रसाद, विधायक नरेन्द्र सिंह कुशवाह और मुकेश सिंह चतुर्वेदी, प्रदेश उपाध्यक्ष अरविन्द सिंह भदौरिया सहित बड़ी संख्या में क्षेत्र के किसान और ग्रामीण उपस्थित थे।

No comments:

Post a Comment

Pages