[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

उप्र में पहले चरण की 73 सीटों पर वोटिंग शुरू


लखनऊ: उप्र विधानसभा चुनाव के पहले चरण का मतदान शनिवार सुबह शुरू हो गया. शांतिपूर्ण मतदान के लिए प्रशासन की ओर से तैयारियां पूरी कर ली गई हैं और कई संवेदनशील बूथों पर वीडियोग्राफी का भी प्रबंध किया गया है. पहले चरण में पश्चिमी उप्र के 15 जिलों की 73 विधानसभा सीटों पर सुबह से ही वोटरों की कतारें लगी हैं.इस बीच मेरठ से बीजेपी प्रत्याशी लक्ष्मीकांत वाजपेई अपने परिवार के साथ सुबह-सुबह मंदिर में पूजा करने पहुंचे. वाजपेई ने यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा, ‘चुनाव में हमारा मुद्दा विकास का है. हम उप्र सरकार की नाकामियों को चुनाव में लेकर गए हैं.’ ईश्वर से मांगी मन्नत के सवाल पर उन्होंने कहा कि उन्होंने भगवान से प्रदेश की तरक्की मांगी है.
इसके अलावा मेरठ से बहुजन समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी पंकज जौली भी पूजा करने सुबह मंदिर पहुंचे. जौली का भी कहना है कि उप्र सरकार की विफलताएं नाकामियां इस प्रदेश में सबसे बड़ा मुद्दा है. इस चरण में 2,60,17,128 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे पहले चरण में 839 प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम मशीनों में कैद हो जाएंगी. पहले चरण के मतदान की जानकारी देते हुए यूपी के मुख्य निर्वाचन अधिकारी टी. वेंकटेश ने कहा कि पहले चरण में कुल 2, 60,17,128 मतदाता वोट डालेंगे. इसमें 14276128 पुरुष और 11776308 महिलाएं शामिल हैं. मतदान के लिए 14514 मतदान केंद्र बनाए गए हैं. निर्वाचन आयोग ने बताया कि पहले चरण में महिला प्रत्याशियों की संख्या 77 है. मतदान केंद्रों पर 2362 डिजिटल कैमरे, 1526 वीडियो कैमरा लगाए गए हैं. 2857 जगहों पर वेब कास्टिंग की व्यवस्था भी की गई है. टी. वेंकटेश ने बताया कि पहले चरण के मतदान के लिए 826 कंपनी अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई है. इसके अलावा 8011 सब इंस्पेक्टर, 4823 मुख्य आरक्षी और 60289 पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है. मतदान केंद्रों पर 124528 मतदान कर्मियों की तैनाती की गई है. उन्होंने बताया कि मतदान के दौरान 62 जनरल ऑब्जर्वर, 19 व्यय प्रेक्षकों और 10 पुलिस ऑब्जर्वरों की तैनाती की गई है. मतदान में पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी अजित सिंह सहित कई दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर होगी. पहले चरण में कई रसूखदार प्रत्याशी हैं तो कई प्रत्याशी अपनी सियासी विरासत के साथ चुनाव मैदान में उतरे हैं. राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह के पौत्र और सांसद राजबीर सिंह के बेटे संदीप सिंह अलीगढ़ जिले की अतरौली विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी हैं. यह वही सीट है जहां से खुद कल्याण सिंह विधानसभा पहुंचे थे. अब संदीप को अपने दादा कल्याण सिंह की विरासत बचानी है. मथुरा विधानसभा सीट से कांग्रेस नेता प्रदीप माथुर खुद चुनाव मैदान में हैं, यहां सपा-कांग्रेस के गठबंधन के बाद माथुर की स्थिति मजबूत मानी जा रही है. हालांकि यहां माथुर को भाजपा के राष्ट्रीय सचिव श्रीकांत शर्मा और रालोद के अशोक अग्रवाल से चुनौती मिल रही है. समाजवादी पार्टी के थिंक टैंक रामगोपाल की भी पहले चरण में परीक्षा होगी. जसराना से सपा के विधायक रामवीर सिंह टिकट कटने के बाद अब लोकदल से चुनाव लड़ रहे हैं. रामवीर सिंह तो मुलायम सिंह यादव के रिश्तेदार भी हैं. जाटों के नेता माने-जाने वाले राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) प्रमुख चौधरी अजीत सिंह के लिए यह चरण काफी अहमियत वाला है. किसी भी बड़े दल से गठबंधन न होने से चौधरी ने खुद अकेले दम पर चुनाव मैदान में उतरने का फैसला किया था. अब चौधरी का मुकाबला जहां सपा-कांग्रेस गठबंधन से है, वहीं भाजपा से भी सीधा मुकाबला है. चौधरी ने पिछले 2012 के चुनाव में नौ सीटों पर जीत हासिल की थी. अब रालोद ने यहां से 59 प्रत्याशी अपने उतारे हैं. चुनाव बाद नतीजे ही तय करेंगे कि चौधरी की उप्र में सियासी हनक बढ़ेगी या नहीं.

About Author Mohamed Abu 'l-Gharaniq

when an unknown printer took a galley of type and scrambled it to make a type specimen book. It has survived not only five centuries.

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search