[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

उप्र में पहले चरण में 64.2% मतदान


नई दिल्ली: उप्र विधानसभा चुनाव के पहले चरण में शनिवार को 73 सीटों पर 64.22 प्रतिशत मतदान हुआ, जिसे चुनाव आयोग ने ‘अनुकरणीय’ बताया.
चुनाव आयोग ने 2012 के विधानसभा चुनाव में इन्हीं सीटों पर हुए मतदान का आंकड़ा सामने नहीं रखा, लेकिन कहा कि आज दर्ज किया गया मतदान प्रतिशत तब राज्य में हुए 58.62 प्रतिशत मतदान से ज्यादा है. 2014 के लोकसभा चुनाव में कुल 59.12 प्रतिशत मतदान हुआ था. उप्र के प्रभारी उप चुनाव आयुक्त विजय देव ने मतदान को ‘अनुकरणीय’ बताया और कहा कि यह 15 फरवरी से आठ मार्च के बीच होने वाले चुनाव के ‘बाकी छह चरणों के लिए रुझान’ तय करेगा. उन्होंने हिंसा की घटनाओं की तरफ संकेत करते हुए कहा कि हालांकि कुछ जगहों पर भीड़ जमा हो गई, समय रहते पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई से सुनिश्चित हुआ कि चुनाव संबंधी हिंसा ना हो और कोई हताहत ना हो. देव ने संवाददाताओं से कहा, ‘पुलिस ने लोगों को भागने पर मजबूर कर दिया, लेकिन चुनाव संबंधी हिंसा, या किसी के हताहत होने की घटना नहीं हुई’. पंद्रह जिलों में हुए चुनाव के दौरान 42 ईवीएम और 52 वीवीपीएटी (वेरिफियेबल पेपर ऑडिट ट्रेल) मशीनें बदलनी पड़ीं. अधिकारी ने कहा कि इस तरह के मामले पूर्व के चुनावों की तुलना में कम थे. आयोग के अधीन काम करने वाली प्रवर्तन एजेंसियों ने 9.56 करोड़ रुपये की नकदी, 14 करोड़ रुपये की कीमत की 4.44 लाख लीटर शराब जब्त की ताकि मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए उनका इस्तेमाल ना हो. देव ने बताया कि पहले चरण के चुनाव में सात जगहों पर लोगों ने मतदान का बहिष्कार किया, जिनमें अधिकारियों ने छह मामलों में हस्तक्षेप कर उनका हल कर दिया. इन मामलों में उचित मुआवजा एवं सड़कों का निर्माण प्रमुख मुद्दे थे. जहां कवि नगर (गाजियाबाद), नंगल कोटी (फिरोजाबाद), छोहरी गांव और मजरा (मथुरा) में लोगों को मतदान के लिए मना लिया गया, मथुरा के भरत नगरिया में लोगों ने मतदान नहीं किया.

About Author saloni

i am proffesniol blogger

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search