[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

बामौर में ओला पीड़ित किसानों के बीच पहुँचे मुख्यमंत्री


भोपाल: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि ओला एवं बेमौसम बारिश से किसानों की फसलें तबाह हुई हैं। राज्य सरकार प्रभावितों की जिंदगी तबाह नहीं होने देगी। संकट की इस घड़ी में सरकार पूरी ताकत के साथ किसानों के साथ खड़ी है। फसलों की क्षति का तत्परता से आंकलन करवाया जायेगा और किसानों को जल्द से जल्द राहत मुहैया करवाई जायेगी। मुख्यमंत्री मुरैना जिले के बामौर में ओला प्रभावित किसानों को ढाँढस बँधा रहे थे।
चौहान ने बताया कि कलेक्टर को निर्देश दिए गए हैं कि पूरी ईमानदारी और संवेदनशीलता के साथ फसलों का तत्परता से सर्वेक्षण करवायें। क्षति के आंकलन के बाद दो तरह से फसलों के नुकसान की भरपाई की जायेगी। जिन किसानों ने अपनी फसल का बीमा करवाया है, उन्हें 25 प्रतिशत राशि प्राथमिक आंकलन के बाद दिलवाई जायेगी तथा बाद में पूरा भुगतान करवाया जायेगा। सरकार इसकी खुद मॉनीटरिंग करेगी। जिन किसानों ने बीमा नहीं करवाया है, उनकी भरपाई सरकार खुद करेगी। चौहान ने यह भी कहा कि जिन किसानों की फसलों का नुकसान 50 प्रतिशत से ज्यादा हुआ है, उनकी बेटियों के विवाह के लिये सरकार 25 हजार रूपए की आर्थिक सहायता मुहैया करायेगी। साथ ही प्रभावित किसानों की कर्ज वसूली भी स्थगित की जायेगी। प्रदेश सरकार अगली साल की फसल के लिये ओला प्रभावित किसानों को सुगमता से कृषि ऋण भी मुहैया करायेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन किसानों की फसलों में कुछ भी नहीं बचा है, उन्हें एक रूपए प्रति किग्रा के हिसाब से राशन मुहैया करवाया जायेगा। मुख्यमंत्री ने किसानों को भरोसा दिलाया कि उनकी फसलों का सही-सही आंकलन किया जायेगा। ओला प्रभावित किसानों के बच्चों की पढ़ाई की चिंता भी सरकार करेगी। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री रूस्तम सिंह ने भी किसानों को जल्द राहत मुहैया करवाने के लिये आश्वस्त किया। उन्होंने बताया कि बेमौसम बारिश और ओला वृष्टि की सूचना मिलते ही मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को तत्परता और उदारता के साथ सर्वेक्षण करने के निर्देश दिए थे। सांसद अनूप मिश्रा, महापौर अशोक अर्गल, सभापति अनिल गोयल, अनूप सिंह भदौरिया सहित अन्य जन-प्रतिनिधि मौजूद थे। कलेक्टर विनोद शर्मा ने बताया कि जिले में बेमौसम बारिश और ओला वृष्टि से लगभग 63 गाँवों की फसलें प्रभावित हुई हैं। फसलों के सर्वेक्षण के लिये संयुक्त दल गाँव-गाँव में भेजे गए हैं। सर्वेक्षण की कार्रवाई जल्द पूरी की जायेगी। मुख्यमंत्री ने ओला प्रभावित किसानों से एक-एक कर मिले और जो किसान क्षतिग्रस्त फसल लेकर आए थे, उसका अवलोकन भी किया। उन्होंने किसानों के बीच जाकर सभी को भरोसा दिलाया कि आप फसल हारे हैं, जिंदगी नहीं। सरकार राहत मुहैया कराने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगी। प्रमुख घोषणाएँ हैं, जिन किसानों ने फसल का बीमा करवाया है, उन्हें 25 प्रतिशत राशि प्राथमिक आंकलन के बाद दिलवाई जायेगी। बाद में पूरा भुगतान होगा। जिन किसानों ने बीमा नहीं करवाया है, उनकी भरपाई सरकार करेगी। 50 प्रतिशत से अधिक नुकसान वाली फसलों के किसानों की बेटियों के विवाह के लिए 25 हजार रूपये की आर्थिक सहायता मिलेगी। ओला प्रभावित किसानों की कर्ज वसूली स्थगित की जायेगी। प्रभावित किसानों को अगले साल की फसल के लिए सुगमता से कृषि ऋण मिलेगा।जिन किसानों की फसलों में कुछ भी नहीं बचा है, उन्हें एक रूपये प्रति किलो की दर से राशन मिलेगा।

About Author saloni

i am proffesniol blogger

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search