सपा के साथ कांग्रेस का गठबंधन खटाई में पड़ गया - .

Breaking

Friday, 20 January 2017

सपा के साथ कांग्रेस का गठबंधन खटाई में पड़ गया


नई दिल्ली: यूपी चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी के साथ कांग्रेस का गठबंधन खटाई में पड़ गया है। सपा की जारी लिस्ट में कांग्रेसी सीटों पर भी उम्मीदवार घोषित करने को कांग्रेस ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। पार्टी नेता अजय माकन का कहना है कि अब अखिलेश यादव और ग़ुलाम नबी आज़ाद की बातचीत के बाद ये तय होगा कि गठबंधन होगा कि नहीं।
माकन ने कहा कि अखिलेश यादव के साथ बातचीत के बाद कांग्रेस का गठबंधन संपूर्ण हो चुका था लेकिन समाजवादी पार्टी की तरफ से लिस्ट का जारी होना और कांग्रेस की नौ सीटों पर समाजवादी पार्टी का उम्मीदवार उतारना ये दुर्भाग्यपूर्ण है। अब अखिलेश यादव और गुलाम नबी आजाद की बातचीत के बाद ये तय होगा कि गठबंधन होगा कि नहीं। इससे पहले समाजवादी पार्टी ने 191 उम्मीदवारों के बाद 18 और उम्मीदवारों की सूची जारी कर दी। इसमें बेनी प्रसाद वर्मा के बेटे को केसरगंज से उम्मीदवार बनाया गया है। जबकि अयोध्या से पवन पांडे को टिकट मिला है। साढ़े 6 बजे यूपी की कांग्रेस केन्द्रीय चुनाव समिति की बैठक भी होनी है। बैठक के लिए लखनऊ गए उत्तर प्रदेश कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर को पहले तो वापस दिल्ली बुला लिया गया, लेकिन बाद में उन्हें लखनऊ में सपा नेताओं के बातचीत के लिए रोक दिया गया है। राज बब्बर गठबंधन के सिलसिले में समाजवादी पार्टी के नेताओं से मिलने लखनऊ पहुंचे थे। गौरतलब है कि सपा ने आज विधान सभा चुनाव के लिए 191 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की है। इसमें उन सीटों पर भी उम्मीदवार उतार दिए गए हैं, जिन पर कांग्रेस की नजर थी और पार्टी ने उस पर पिछले चुनावों में जीत भी हासिल की थी। वहीं समाजवादी पार्टी नेता किरणमय नंदा ने कहा है कि सपा कांग्रेस को 84-89 सीटें दे सकती है। वरिष्ठ नेता नरेश अग्रवाल का कहना है कि सपा-कांग्रेस गठबंधन पर शुक्रवार शाम तक कोई ना कोई फैसला जरूर आएगा और इस पर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ही फैसला लेंगे। इस लिहाज से कांग्रेस की यह बैठक बेहद अहम मानी जा रही है क्योंकि सपा द्वारा जारी उम्मीदवारों की लिस्ट से साफ जारी हो रहा है कि समाजवादी पार्टी कांग्रेस पर दबाव बना अपनी शर्तों पर गठबंधन के प्रयास में है।

No comments:

Post a Comment

Pages