[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

हीराखंड एक्सप्रेस के पटरी से उतर जाने से 23 लोग मारे गए


विजयनगरम: आंध्र प्रदेश के विजयनगरम में जगदलपुर-भुवनेश्वर एक्सप्रेस के पटरी से उतर जाने के कारण कम से कम 23 लोग मारे गए और 100 से अधिक लोगों के घायल होने की खबर है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। रेलवे की रिलीफ़ ट्रेन मौके पर पहुंच गई । राहत और बचाव का काम जारी है।
यह घटना कल शनिवार देर रात करीब 11 बजे उस समय हुई जब ट्रेन जगदलपुर से भुवनेश्वर के लिए जा रही थी। ईस्ट कोस्ट रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी जेपी मिश्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि जगदलपुर-भुवनेश्वर एक्सप्रेस (ट्रेन संख्या-18448) के सात कोच और इंजन कुनेरु स्टेशन के पास पटरी से उतर गए। इंजन के अलावा लगेज वैन, दो जनरल कोच, दो स्लीपर कोच, एक एसी थ्री टीयर और एक टू टीचर कोच पटरी से उतर गए। उन्होंने बताया कि हादसे में 23 लोगों की मौत हुई है। रायगढ़ के उप-कलेक्टर मुरलीधर स्वैन ने कहा कि घटना में घायलों की संख्या 100 के आसपास हो सकती है। हताहतों का आंकड़ा बढ़ सकता है, क्योंकि कई लोग फंसे हुए हैं।घायलों को परबतीपुरम और रायगढ़ के दो अस्पतालों में उपचार के लिए भर्ती कराया गया है। मिश्रा ने आगे कहा कि डॉक्टरों की एक टीम घटनास्थल पर पहुंच गई है। विजयनगरम और रायगढ़ जिला प्रशासन बचाव अभियान में सक्रिय रूप से भाग ले रहे हैं। ट्रेन में 22 कोच लगे थे। इस घटना के चलते रायगढ़ और विजयनगरम रूट पर रेल सेवाएं प्रभावित हुई हैं। कई ट्रेनों का रूट बदला गया है। रेल मंत्रालय द्वारा किए गए कई ट्वीट में जानकारी देते हुए बताया गया कि ‘कुल 4 दुर्घटना राहत वैन विभिन्न स्थानों से पहुंची हैं। घायलों को नजदीकी अस्पतालों तक पहुंचाने और उनके उपचार को प्राथमिकता दी जा रही है। रेल मंत्री सुरेश प्रभु व्यक्तिगत रूप से मामले की निगरानी कर रहे हैं। उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों को तत्काल घटनास्थल पर पहुंचकर बचाव और राहत कार्यों को सुनिश्चित करने को कहा है। कुनेरु स्टेशन रायगढ़ से 35 किलोमीटर दूर विजयनगरम में है और यह इलाका माओवाद से प्रभावित है। यात्रियों को ब्रह्मपुर, पलासा और विजयनगरम तक निशुल्क पहुंचाने के लिए पांच बसों की व्यवस्था की गई है।

About Author Mohamed Abu 'l-Gharaniq

when an unknown printer took a galley of type and scrambled it to make a type specimen book. It has survived not only five centuries.

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search