कलमाडी और चौटाला बने IOA अध्यक्ष - .

Breaking

Tuesday, 27 December 2016

कलमाडी और चौटाला बने IOA अध्यक्ष

kalmadi
नई दिल्ली: राष्ट्रमंडल खेलों में भ्रष्टाचार के आरोपी सुरेश कलमाड़ी को भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) की सालाना आम सभा में आजीवन अध्यक्ष बनाया गया। एक अन्य दागी राजनेता अभय सिंह चौटाला को भी आईओए का आजीवन अध्यक्ष बनाया गया है। कलमाड़ी और चौटाला से पहले केवल विजय कुमार मल्होत्रा को ही आईओए का आजीवन अध्यक्ष बनाया गया था। वह 2011 और 2012 में आईओए के कार्यकारी अध्यक्ष भी रहे थे।
खेल मंत्री विजय गोयल ने कलमाड़ी और चौटाला को आईओए का आजीवन अध्यक्ष बनाए जाने के फैसले पर हैरानी जताई है। उन्होंने कहा कि सरकार से बड़ा कोई नहीं है, हमने डिटेल मांगी है और हमारी सरकार जो भी कदम ठीक समझेगी वो उठाएगी। दोनों के ऊपर आपराधिक मामले हैं, गंभीर अपराधिक पृष्ठभूमि होने की वजह से दोनों को मैनेजमेंट की कमेटी से हटाया गया था। हमारी सरकार खेलों में पारदर्शिता की तरफदार है और हम चाहते हैं कि खेलों में गुड गवर्नेंस हो, हम इसके लिए कोई समझौता नहीं करेंगे। हमने रिपोर्ट मांगी है, जैसे ही रिपोर्ट हमारे पास आएगी, आईओ के अध्यक्ष से बात करके जो भी कार्रवाई जरुरी होगी, सरकार वो कदम उठाएगी। कलमाड़ी 1996 से 2011 तक आईओए अध्यक्ष रहे और उन्हें 2010 दिल्ली राष्ट्रमंडल खेलों में घोटाले में संलिप्तता के कारण दस महीने जेल की सजा काटनी पड़ी थी। बाद में उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया था। पुणे में जन्मे 72 वर्षीय कलमाड़ी कांग्रेस के पूर्व सांसद भी हैं। वह 2000 से 2013 तक एशियाई एथलेटिक्स संघ के भी अध्यक्ष रहे थे। उन्हें पिछले साल ही एशियाई एथलेटिक्स संघ का आजीवन अध्यक्ष बनाया गया था। वह अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स महासंघ (आईएएएफ) के भी 2001 से 2013 तक सदस्य रहे. चौटाला दिसंबर 2012 से फरवरी 2014 तक आईओए अध्यक्ष रहे। उस समय अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति ने चुनावों में आईओए को निलंबित कर रखा था क्योंकि उसने चुनावों में ऐसे उम्मीद्वार उतारे थे जिनके खिलाफ आरोप पत्र दाखिल थे। आईओए अध्यक्ष के रूप में उनके चुनाव को आईओसी ने रद्द कर दिया था। आईओए संविधान में संशोधन करके सुनिश्चित किया गया कि आरोपी उम्मीद्वारों को चुनावों में उतरने की अनुमति नहीं दी जाएगी। इसके बाद ही आईओसी ने फरवरी 2014 में आईओए का निलंबन हटाया था। चौटाला को मुक्केबाजी की पूर्ववर्ती संस्था भारतीय एमेच्योर मुक्केबाजी महासंघ का भी अध्यक्ष चुना गया था जिसकी विश्व संस्था एआईबीए ने 2013 में मान्यता रद्द कर दी थी। हाल में उन्हें हरियाणा ओलंपिक संघ का अध्यक्ष चुना गया और रिपोर्टों के अनुसार उनके इस गुट को आईओए ने मान्यता दे दी है।

No comments:

Post a Comment

Pages