[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

मोदी के खिलाफ मेरे पास जानकारी है जिससे वो घबराए रहे : राहुल गांधी

rahul
नई दिल्ली: नोटबंदी को लेकर संसद में जारी हंगामे के बीच कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को दावा कि उनके पास पीएम नरेंद्र मोदी से जुड़ी ऐसी जानकारी है जिससे उनके ‘नोटबंदी के फैसले का गुब्बारा’ फूट जाएगा, लेकिन उन्हें संसद में बोलने नहीं दिया जा रहा ।
राहुल ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘मेरे पास जो जानकारी है पीएम मोदी से जुड़ी निजी जानकारी है, जिसे में लोकसभा में रखना चाहता हूं । में संसद के एक चुने हुए सदस्य के रूप में अपनी बात रखना चाहता है । संवाददाता सम्मेलन में विपक्ष के अन्य नेता भी मौजूद थे । राहुल ने कहा, ‘मेरे पास जो जानकारी है उसे लेकर प्रधानमंत्री डरे हुए हैं. इसलिए वो चाहते हैं कि हम सदन में ना बोल पाएं । लगातार हंगामे के बीच बुधवार को भी लोकसभा की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई । उधर सरकार ने कहा, पीएम मोदी नोटबंदी के मुद्दे पर बहस में बोलने को तैयार थे । लेकिन जैसे ही वह सदन में बैठे, उसके कुछ ही मिनट बाद नारों के बीच कार्यवाही स्थगित कर दी गई, जिससे संकेत मिलता है कि संसद के शीत सत्र के आखिरी तीन दिन भी बर्बाद होने जा रहे हैं । दोनों ही पक्ष एकदूसरे पर नोटबंदी के विषय पर बहस से भागने का आरोप लगा रहे हैं । बीजेपी के प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव ने कहा राहुल गांधी खुद का ही मजाक बना रहे हैं और उनकी पार्टी संसद नहीं चलने दे रही । राहुल गांधी के साथ तृणमूल कांग्रेस के संदीप बंदोपाध्याय, कल्याण बनर्जी, माकपा के पी करुणाकरण, राकांपा के तारीक अनवर, आरएसपी के एन के प्रेमचंद्रन, एआईयूडीएफ के बदरूद्दीन अजमल आदि मौजूद थे । राहुल ने कहा कि प्रधानमंत्री का नोटबंदी का फैसला गरीबों पर आघात है । इसलिए प्रधानमंत्री की यह जवाबदेही है कि वे नोटबंदी के मुद्दे पर स्पष्टीकरण दें । वे देश के समक्ष स्पष्टीकरण दें, वे सदन में बोलें । कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री काफी घबराये हुए हैं और मुझे यह जानकारी है कि सदन में मुझे नहीं बोलने दिया जायेगा । उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री पॉप कंसर्ट में बोल रहे हैं, जनसभा में बोल रहे हैं लेकिन सदन में नहीं बोल रहे हैं । इतिहास में पहली बार सत्ता पक्ष के लोग चर्चा को रोक रहे हैं । आमतौर पर विपक्ष ऐसा करता रहा है और सत्ता पक्ष कामकाज चलाने का प्रयास करता है । प्रधानमंत्री बहाने बनाना छोड़कर सदन में आए और चर्चा हो । उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व राहुल गांधी यह दावा कर चुके हैं कि अगर उन्हें नोटबंदी पर बोलने दिया जाता है तो भूकंप आ जायेगा । राहुल गांधी ने कहा कि एक बार चर्चा हो जायेगी तो उसके बाद देश तय करेगा कि सत्तापक्ष सच बोल रहा है या विपक्ष । कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि वे एक सांसद हैं, जन प्रतिनिधि हैं और अमेठी की जनता ने चुनकर भेजा है और इस नाते वे सदन में अपनी बात रखना चाहते हैं. ‘लेकिन मुझे रोका जा रहा है । सदन में बोलना हमारा अधिकार है । उन्होंने कहा कि हम सब ने नियम के दायरे को छोड़कर चर्चा कराने पर सहमति व्यक्त की थी और स्पीकर से आग्रह किया था कि जितने घंटे चर्चा करानी हो चर्चा हो क्योंकि यह हम सब का राजनीतिक हक है । लेकिन चर्चा को रोका जा रहा है ।

About Author saloni

i am proffesniol blogger

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search