तमिलनाडु के मुख्य सचिव के घर और दफ्तर पर छापा - .

Breaking

Wednesday, 21 December 2016

तमिलनाडु के मुख्य सचिव के घर और दफ्तर पर छापा

cs-tamilnaydo
चेन्नई: किसी शीर्ष नौकरशाह के ठिकानों पर छापे के संभवत: पहले मामले में आयकर अधिकारियों ने बुधवार को तमिलनाडु के मुख्य सचिव के घर और दफ्तर पर तलाशी ली और अफसरों ने 30 लाख रुपये के नए नोट और पांच किलोग्राम सोना जब्त करने का दावा किया। इसके अलावा करीब पांच करोड़ रुपये की अघोषित आय का खुलासा होने का भी दावा किया।
आयकर विभाग के सूत्रों ने कहा कि सीआरपीएफ के करीब 35 जवानों के साथ आयकर विभाग के करीब 100 अधिकारियों के दल ने बुधवार सुबह छह बजे से छापेमारी शुरू की और मुख्य सचिव पीराम मोहन राव, उनके बेटे विवेक और कुछ रिश्तेदारों के चेन्नई और आंध्र प्रदेश के चित्तूर स्थित ठिकानों समेत 15 जगहों पर तलाशी ली। आयकर विभाग के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि 30 लाख रुपये नए नोटों में और पांच किलोग्राम सोना छापे में जब्त किया गया। उन्होंने कहा कि विवेक द्वारा कथित तौर पर अर्जित पांच करोड़ रुपये की अघोषित आय का भी खुलासा हुआ। आयकर विभाग ने यहां तमिलनाडु के कुछ रेत खनन कारोबारियों के यहां छापे के बाद यह कार्रवाई की है। छापे में नोटबंदी के बाद प्रदेश में नए नोटों की सबसे बड़ी खेप पकड़ी गई थी। आयकर अधिकारी ने कहा, ‘हम सबूतों के आधार पर छापे मारने गए, जिसमें दस्तावेज, नोटिंग और अन्य चीजें हैं जो राव और उनके बेटे द्वारा करीब 16 करोड़ रुपये से लेकर 17 करोड़ रुपये तक की प्राप्ति की ओर इशारा करते हैं। अधिकारी ने कहा कि यहां राव के आवास, उनके रिश्तेदारों और सहयोगियों के आवास समेत सचिवालय में उनके चैंबर में यह कार्रवाई की गई। आयकर विभाग के शीर्ष सूत्रों ने कहा कि राव के बेटे विवेक पापीसेत्ती और उनके रिश्तेदारों के खिलाफ भी कार्रवाई शुरू की गई। आंध्र प्रदेश के चित्तूर में विवेक के ससुर के यहां भी तलाशी ली गई। जब अधिकारी से पूछा गया कि उनके पास किस तरह के सबूत थे, इस पर उन्होंने कहा हमारे पास बहुत सबूत हैं, नहीं तो, हम तलाशी कैसे करते। उन्होंने खनन कारोबारी शेखर रेड्डी और श्रीनिवासुलू के पास से 135 करोड़ रुपये की नकदी और 177 किलोग्राम सोना जब्त करने की हालिया कार्रवाई की ओर इशारा किया। उन्होंने कहा कि उस अभियान से भी हमारे पास सबूत हैं। सीबीआई ने बुधवार को रेड्डी और उनके सहयोगी श्रीनिवासुलू को भी गिरफ्तार किया और उन्हें यहां की एक अदालत ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

No comments:

Post a Comment

Pages