संसद हार गई तो बहुत बदनामी होगी : आडवाणी - .

Breaking

Thursday, 15 December 2016

संसद हार गई तो बहुत बदनामी होगी : आडवाणी

advani
नई दिल्ली: संसद के शीतकालीन सत्र में लगातार हंगामा जारी है। एक भी दिन कार्यवाही सुचारू रूप से नहीं चल पाई है। सरकार और विपक्ष एक दूसरे पर चर्चा से भागने का आरोप लगा रहे हैं। राहुल गांधी ने नोटबंदी को लेकर पीएम मोदी पर निजी भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं। पिछले काफी समय से चुप्पी साधे हुए बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने इस मामले पर चुप्पी तोड़ी है।
वहीं लोकसभा में पिछले करीब तीन सप्ताह से जारी गतिरोध पर वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी का आक्रोश फिर से फूट पड़ा और उन्होंने कहा कि नोटबंदी के मुद्दे पर चर्चा किए बिना यदि शुक्रवार को लोकसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो गई तो संसद हार जाएगी और हम सब की बहुत बदनामी होगी।आडवाणी ने हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित होने के बाद आक्रोश जताते हुए कुछ अन्य दलों के सदस्यों के साथ बातचीत में कहा, मेरा तो मन कर रहा है कि इस्तीफा दे दूं। उन्होंने कहा, सदन में नोटबंदी के मुद्दे पर चर्चा जरूर होनी चाहिए। भाजपा के वरिष्ठ नेता ने कहा, चर्चा जरूर करें और शुक्रवार को चर्चा कर शांति से सदन को स्थगित कर दें, बिना किसी जीत हार क। उन्होंने कहा, सब को लगी है , मैं जीतूं , मैं जीतूं…लेकिन यदि कल भी ऐसे ही हंगामे के बीच सदन स्थगित हो गया तो संसद हार जाएगी और हम सब की बहुत बदनामी होगी। विमुद्रीकरण के मुद्दे पर विपक्ष और सत्ता पक्ष के सदस्यों के भारी हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही करीब सवा 12 बजे स्थगित होने के बाद भी आडवाणी सदन में करीब 20 मिनट तक गंभीर चिंतन की मुद्रा में बैठे रहे। सदन स्थगित होने पर तृणमूल कांग्रेस के इदरिस अली उनकी सीट पर गए और उन्हें प्रणाम किया। इस बीच विपक्ष के कुछ ओर सदस्य भी आडवाणी की सीट के पास आ गए।

No comments:

Post a Comment

Pages