[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

दो बार हिरासत में लिए जाने के बाद राहुल गांधी रिहा, केजरीवाल को भी पुलिस ने छोड़ा

दो बार हिरासत में लिए जाने के बाद राहुल गांधी रिहा, केजरीवाल को भी पुलिस ने छोड़ा

od
नई दिल्ली: वन रैंक, वन पेंशन के मुद्दे पर कथित तौर पर आत्महत्या करने वाले एक पूर्व सैनिक रामकिशन ग्रेवाल के परिवार के सदस्यों से मिलने की कोशिश के दौरान कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को दिल्ली पुलिस ने दोबारा हिरासत में ले लिया। राहुल को ज्योतिरादित्य सिंधिया और अजय माकन सहित कांग्रेस के अन्य नेताओं के साथ पुलिस वैन में बैठा दिया गया और थाने ले जाया गया.बाद में उन्हें छोड़ दिया गया।
नई दिल्ली: वन रैंक, वन पेंशन के मुद्दे पर कथित तौर पर आत्महत्या करने वाले एक पूर्व सैनिक रामकिशन ग्रेवाल के परिवार के सदस्यों से मिलने की कोशिश के दौरान कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को दिल्ली पुलिस ने दोबारा हिरासत में ले लिया। राहुल को ज्योतिरादित्य सिंधिया और अजय माकन सहित कांग्रेस के अन्य नेताओं के साथ पुलिस वैन में बैठा दिया गया और थाने ले जाया गया.बाद में उन्हें छोड़ दिया गया।
इसके बाद राहुल ने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा दुख की बात यह है कि इस परिवार को पूरा दिन बंद कर रखा गया। मैंने उस परिवार से मिलने की कोशिश की. दुख की इस घड़ी में उनसे दो मिनट मिलकर बताना चाहता था, कि मैं उनके साथ हूं। मैंने वहां पुलिसवालों से कहा कि उनके परिवार से मिलने दीजिए, इस परिवार के साथ जो हुआ, वह गलत हुआ। कम से कम सरकार को इस पूर्व सैनिक के परिवार से माफी मांगनी चाहिए। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भी ग्रेवाल के परिजनों से मिलने की कोशिश के दौरान हिरासत में ले लिया गया। पुलिस उन्हें लेडी हार्डिंग अस्पताल से अपने साथ आरके पुरम थाने लेकर गई। करीब पांच घंटे के बाद देर रात उन्हें रिहा कर दिया गया. इससे पहले केजरीवाल ने कहा कि उन्हें ग्रेवाल के परिजनों से मिलने से रोका जा रहा है। केजरीवाल ने सवाल किया, ‘क्या मैं बंदूक से लैस हूं? मुझे पूर्व सैनिक के परिवार से मिलने से कैसे रोका जा सकता है। इससे पहले राहुल गांधी और दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को आरएमएल अस्पताल में प्रवेश करने की कोशिश करते हुए हिरासत में लिया गया, जब वे ग्रेवाल के परिवार से मिलने की कोशिश कर रहे थे. कांग्रेस उपाध्यक्ष को अस्पताल परिसर में प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई। जब उन्होंने बार-बार प्रवेश का प्रयास किया, तो भारी संख्या में तैनात सुरक्षाकर्मियों ने उन्हें रोकने का प्रयास किया, जिस पर राहुल की तीखी प्रतिक्रिया आई। राहुल ने संवाददाताओं से कहा कि क्या लोकतंत्र इस तरह से काम करता है. वरिष्ठ पुलिस अधिकारी एमके मीणा ने कहा कि वे स्वास्थ्य सेवाओं में अवरोध पैदा नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा, ‘हम दिल्ली के अस्पतालों में किसी तरह की राजनीति नहीं होने देंगे। लोकतंत्र का मतलब स्वास्थ्य सेवाओं को बाधा पहुंचाना नहीं है। राहुल गांधी को मंदिर मार्ग थाने में हिरासत में रखा गया है। हालांकि बाद में राहुल को रिहा कर दिया गया था. इससे पहले सिसोदिया ने भी अस्पताल परिसर में प्रवेश किया और मृतक के परिजनों से मिलने की कोशिश की। उन्हें भी पुलिस ने हिरासत में ले लिया। परिजनों के मुताबिक, मंगलवार दोपहर रामकिशन अपने साथियों के साथ रक्षामंत्री से मिलने जा रहे थे, लेकिन रास्ते में ही रामकिशन ने ज़हर खा लिया।परिजनों के मुताबिक, जो ज्ञापन उनके पिता अपनी मांगों को लेकर रक्षामंत्री को देने जा रहे थे उसी पर उन्होंने सुसाइड नोट लिखकर जहर खा लिया। रामकिशन ने मरने से पहले एक नोट भी लिखा, जिसमे उन्होंने लिखा मैं मेरे देश के लिए, मेरी मातृभूमि के लिए और मेरे देश के वीर जवानों के लिए अपने प्राणों को न्योछावर करने जा रहा हूं।

About Author saloni

i am proffesniol blogger

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search