[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

मोदी से माफी की मांग के साथ संसद में भारी हंगामा

pm
नई दिल्ली: नोटबंदी के फैसले पर विपक्ष ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक ताजा टिप्प्णी को लेकर संसद में अपने तेवर और कड़े करते हुए उनसे माफी की मांग के साथ भारी हंगामा किया। इससे पिछले कई दिनों से संसद में जारी गतिरोध के समाप्त होने के आसार धूमिल हो गए. सरकार की ओर से यह स्पष्ट कहा गया कि प्रधानमंत्री द्वारा माफी मांगने का सवाल ही नहीं है।
पीएम मोदी ने शुक्रवार सुबह एक पुस्तक विमोचन समारोह में कहा कि नोटबंदी के फैसले से पहले तैयारी नहीं होने का आरोप लगाते हुए सरकार की आलोचना कर रहे लोगों की पीड़ा यह है कि उन्हें खुद तैयारी का वक्त नहीं मिला। अगर उन्हें 72 घंटे का समय तैयारी के लिए मिल जाता तो वह प्रधानमंत्री की तारीफ करते।प्रधानमंत्री की इस टिप्पणी का विपक्षी सदस्यों ने संसद के दोनों सदनों में भारी विरोध किया और उनसे इसके लिए माफी मांगने की मांग की। विपक्ष के हंगामे के कारण जहां लोकसभा एक बार के स्थगन के बाद, वहीं राज्यसभा दो बार के स्थगन के बाद पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गई। शुक्रवार के दिन भोजनावकाश के बाद दोनों सदनों में गैर सरकारी कामकाज होता है, लेकिन यह भी हंगामे की भेंट चढ़ गया। राज्यसभा में संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी यह कहते हुए सुने गए कि प्रधानमंत्री के माफी मांगने का सवाल ही नहीं उठता, बल्कि माफी तो विपक्षी सदस्यों को मांगनी चाहिए।लोकसभा में शुक्रवार को सदन की कार्यवाही शुरू होने पर विपक्षी दलों के सदस्य सदन में कार्य स्थगित करके मतविभाजन वाले नियम 56 के तहत तत्काल चर्चा कराने की मांग करने के साथ साथ नोटबंदी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान का विरोध कर रहे थे। अपनी मांगों के समर्थन में कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, वाम दल के सदस्य आसन के समीप आकर नारेबाजी करने लगे।एक समारोह में प्रधानमंत्री द्वारा दिए गए बयान पर आपत्ति व्यक्त करते हुए सदन में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि प्रधानमंत्री ने जो कहा, वह ठीक नहीं है। उन्हें सदन में बोलना चाहिए, क्योंकि सत्र चल रहा है।संसद के शीतकालीन सत्र में सदन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मौजूद होने की मांग को लेकर जारी विपक्ष के घमासान के बीच राहुल गांधी ने सवाल किया कि वे इतना डरे हुए क्यों हैं। उन्होंने पीएम मोदी को संसद में चर्चा में हिस्सा लेने की चुनौती दी ताकि सभी बातें स्पष्ट हो सके। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से कहा कि प्रधानमंत्री नोटबंदी के कारण लोगों को हुई पीड़ा पर हंस रहे थे और बाद में इस विषय पर बोलते हुए भावुक भी हुए। राहुल गांधी ने कहा, ‘अब देखते हैं कि जब वे लोकसभा में आते हैं तब उनके चेहरे पर कैसा भाव उत्पन्न होता है। राज्यसभा में बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि प्रधानमंत्री ने पूरे विपक्ष पर आरोप लगाया है कि उसे अपना काला धन सफेद करने का समय नहीं मिला। यह अत्यंत निंदनीय टिप्पणी है और प्रधानमंत्री ने ऐसा कहकर पूरे विपक्ष का अपमान किया है, जिसके लिए उन्हें माफी मांगनी चाहिए। विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि गुरुवार को नोटबंदी के मुद्दे पर चर्चा के दौरान पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और अन्य सदस्यों ने साफ शब्दों में कहा था कि विपक्ष काले धन के खिलाफ है तो फिर प्रधानमंत्री यह आरोप कैसे लगा सकते हैं कि विपक्ष काले धन का पक्षधर है। आजाद ने कहा, ‘प्रधानमंत्री यह आरोप कैसे लगा सकते हैं। हम काले धन के खिलाफ हैं और प्रधानमंत्री को अपनी टिप्पणी के लिए माफी मांगनी चाहिए।

About Author saloni

i am proffesniol blogger

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search