मुख्यमंत्री किया ने लोक मंथन प्रदर्शनी का शुभारंभ - .

Breaking

Friday, 11 November 2016

मुख्यमंत्री किया ने लोक मंथन प्रदर्शनी का शुभारंभ

bpl
भोपाल: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि भारत की संस्कृति और लोक जीवन में आनंद की बहुलता और अपनी परंपराओं से भावनात्मक लगाव है। पश्चिमीकरण की अंधभक्ति के कारण आधुनिक जीवन आनंद और जीवन्तता से विमुख हो गया है। चौहान विधानसभा परिसर में 12 नवम्बर से शुरू हो रहे तीन दिवसीय लोक मंथन कार्यक्रम के अंतर्गत प्रदर्शनी का शुभारंभ कर रहे थे। आयोजन संस्कृति विभाग, प्रज्ञा प्रवाह और भारत भवन के सहयोग से हो रहा है। लोक मंथन में राष्ट्र सर्वोपरि के दर्शन में विश्वास रखने वाले मूर्धन्य विचारक भाग ले रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत एक महान एवं प्राचीन राष्ट्र है। पाँच हजार सालों का इसका ज्ञात इतिहास है। जब भारत की सभ्यता चरमोत्कर्ष पर थी तब कई राष्ट्रों का जन्म भी नहीं हुआ था। तक्षशिला और नालंदा जैसे विश्वविद्यालय यहाँ अस्तित्व में थे। चौहान ने कहा कि भारत की लोक संस्कृति की बुनावट परंपराओं एवं जीवन मूल्यों से हुई है। यह अदभुत, अनूठी और विविधतापूर्ण है। उन्होंने कहा कि दुनिया के विकसित देशों ने भौतिक प्रगति की लेकिन जीवन का आनंद खो बैठे। केवल पश्चिम की सोच, सभ्यता और संस्कृति का पालन करना गलत है। उन्होंने कहा कि भारतीय लोक जीवन सकारात्मकता और जीवन्तता से समृद्ध है। यह वर्तमान में विश्वास करता है। इसका अपना जीवन दर्शन है। अपनी जीवन दृष्टि है और उत्सवधर्मिता है। यहाँ मृत्यु का भी उत्सव मनाया जाता है। चौहान ने कहा कि लोक मंथन में जो विचार मंथन होगा उसे राज्य सरकार आगे बढ़ाने का काम करेगी। प्रमुख सचिव संस्कृति मनोज श्रीवास्तव ने लोक मंथन कार्यक्रम एवं प्रदर्शनी की अवधारणा की जानकारी दी। विधानसभा अध्यक्ष सीतासरण शर्मा एवं मुख्यमंत्री चौहान और उनकी धर्मपत्नी साधनासिंह ने वाग्देवी की प्रतिमा के समक्ष पारंपरिक कलश की स्थापना कर दीप प्रज्वलित किया और जनजातीय पारंपरिक अनुष्ठान के अनुसार तुलसी पूजा की। इस अवसर पर सांसद आलोक संजर, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले, प्रज्ञा प्रवाह के सदानंद सप्रे उपस्थित थे। लोकमंथन के आयोजन स्थल विधानसभा परिसर में लगाई गई प्रदर्शनी कई अर्थों में अनोखी है। प्रदर्शनी को भारतीय परम्परा, संस्कृति, पर्यावरण, कला और जनजातीय जीवन के प्रतिबिम्ब के रूप में तैयार किया गया है। यह प्रदर्शनी आम लोगों के लिये तीनों दिन खुली रहेगी।

No comments:

Post a Comment

Pages