[Latest News][6]

गैलरी
देश
राजनीति
राज्य
विदेश
व्यापार
स्पोर्ट्स
स्वास्थ्य

भारत की अर्थ-व्यवस्था में मप्र की होगी प्रमुख भूमिका: सीएम

भारत की अर्थ-व्यवस्था में मप्र की होगी प्रमुख भूमिका: सीएम

mp
भोपाल: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मप्र के 61वें स्थापना दिवस पर प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए कहा कि अब मप्र की पहचान सबसे तेजी से बढ़ते प्रदेश के रूप में बन गई है।
चौहान ने कहा कि देश का दिल होने के नाते मप्र भविष्य में भारत के विकास तथा अर्थ-व्यवस्था को मजबूत बनाने में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाने को तैयार है। उन्होंने नागरिकों को आत्म-विश्वास के साथ आगे बढ़ने और प्रदेश का गौरव बढ़ाने के लिये बधाई देते हुए कहा कि अगला दशक मप्र का है। चौहान ने कहा कि मप्र ने अपने गौरव, अपनी विरासत और अपने इतिहास को संजोये हुए विकास के कई आयाम स्थापित किये हैं। साथ ही अपनी सांस्कृतिक, सामाजिक और ऐतिहासिक विरासत में देश की विविधता और बहुलता को आत्मसात किया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश को सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाने का उत्साह नागरिकों के सहयोग से दिनों दिन बढ़ता जा रहा है। उन्होंने कहा कि लोगों की भागीदारी के बिना सरकारों की सार्थकता नहीं है। हर नागरिक को सरकार की निर्णय प्रक्रिया से जोड़ने का प्रयास किया गया है। अंत्योदय के साथ समग्र विकास और विकास यात्रा में हर नागरिक की भागीदारी की रणनीति से लोगों में स्वयं आगे बढ़ने की तीव्र ललक जगी है। उन्होंने कहा कि राज्य की प्रगति तभी सार्थक है जब हर नागरिक में आगे बढ़ने का आत्म-विश्वास हो। मुख्यमंत्री ने प्राकृतिक आपदाओं के बावजूद किसानों द्वारा कृषि उत्पादन में साल दर साल बढ़ोत्तरी करने की सराहना करते हुए कहा कि किसानों ने प्रदेश को कृषि उत्पादन में देश में लगातार अग्रणी बनाये रखा। किसानों के श्रम एवं सकारात्मक सोच का ही परिणाम है कि जहाँ एक ओर मालवा, छिंदवाडा और बैतूल क्षेत्र संतरा उत्पादन के हब के रूप में उभर रहा है, वहीं दूसरी ओर मंडला और डिंडोरी जिले जैविक कृषि के क्षेत्र में देश में अग्रणी बने हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कृषि उत्पादों का स्थानीय रूप से मूल्य संवर्धन करते हुए खाद्य प्र-संस्करण उद्योगों के लिए 6 फूड पार्क की स्थापना की गई है। इंदौर में हाल में आयोजित ग्लोबल इंवेस्टर्स समिट की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि समिट में 5 लाख 60 हजार करोड़ से अधिक के निवेश प्रस्तावों को जमीन पर लाने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि युवाओं के लिए रोजगार के नये अवसर निर्मित करने में प्रदेश सफल रहा है। बड़े उद्योगों के साथ-साथ छोटे और मध्यम उद्योगों को भी समान रूप से बढ़ावा दिया जा रहा है। युवाओं को कौशलयुक्त बनाने के लिए राज्य कौशल मिशन लागू किया गया है। भोपाल में सिंगापुर के सहयोग से 10 हजार की क्षमता का ग्लोबल वोकेशनल ट्रेनिंग इन्स्टीट्यूट स्थापित किया जायेगा। चौहान ने कहा कि सभी आवासहीन परिवारों को 2022 तक आवास उपलब्ध कराने का लक्ष्य रखा गया है। लगभग 13 लाख आवासहीनों के लिए मकान बनाये जा रहे हैं, जिनमें से लगभग 8 लाख ग्रामीण क्षेत्रों में होंगे। हर भूमिहीन को जमीन का एक खण्ड अवश्य आवंटित किया जायेगा। उन्हें मकान बनाकर दिया जायेगा या मकान बनाने के लिए आर्थिक सहायता दी जायेगी। प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं के सुधार पर तेजी से काम चल रहा है। सभी जिला अस्पतालों में डायलेसिस और कीमोथेरेपी की व्यवस्था की गयी है। सभी अस्पतालों में निःशुल्क दवाओं और पैथालॉजी जाँचों की व्यवस्था की गयी है। शीघ्र 2000 नवीन उप-स्वास्थ्य केन्द्र खुलेंगे। महिलाओं के आर्थिक सशक्तीकरण की चर्चा करते हुए चौहान ने कहा कि शासकीय सेवाओं में महिलाओं को 33 प्रतिशत आरक्षण देने का प्रावधान किया गया है। महिलाओं को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिये 1 लाख 45 हजार ग्रामीण महिला स्व-सहायता समूहों को आय के स्रोतों से जोड़ा गया है।

About Author saloni

i am proffesniol blogger

No comments:

Post a Comment

Start typing and press Enter to search